सामाजिक कुरीतियों को तोड़ कर छत्रपति शाहूजी महाराज ने अंतर-जातीय और अंतर-धार्मिक विवाह को दी थी मंजूरी

राजर्षि छत्रपति शाहूजी महाराज कोल्हापुर रियासत के पहले महाराजा थे और भोंसले राजवंश से संबंधित थे। वे जाति और लिंग भेदभाव से संबंधित समानता कानूनों […]

प्रेरणादायक कहानी: दलित अधिकारों और सामाजिक न्याय के लिए लड़ाई लड़ने वाले चैंपियन डॉ. बीआर अंबेडकर

उन्होंने सामाजिक न्याय प्रणाली के साथ-साथ राष्ट्रीय कानूनी ढांचे पर सकारात्मक अमिट छाप छोड़ी। तब से वह देश में हाशिए पर रहने वाले समुदायों के […]

हॉकी इंडिया की कमान संभालेगी आदिवासी लड़की सलीमा टेटे, मां-बहन ने दूसरों के बर्तन धोकर पहुंचाया इस मुकाम तक

2023 में टोक्यो ओलंपिक में जब भारतीय महिला हॉकी टीम क्वार्टर फाइनल का मुकाबला खेल रही थी, तब तक भी सलीमा टेटे का परिवार गांव […]

करुक्कू फेम लेखिका बामा को प्रसिद्ध वर्चोल दलित साहित्य पुरस्कार, दलित फिल्मकार पा. रंजीत बोले गैरदलित लेखक-​निर्देशक हमारा दर्द समझने में असमर्थ

करुक्कू फेम लेखिका बामा को पुरस्कृत करते हुए प्रसिद्ध दलित फिल्म निर्माता रंजीत ने कहा कि गैर-दलित लेखक और फिल्म निर्माता दलितों के जीवन को […]

अपनी गायकी से समाज की कुरीतियों को उजागर करने वाले दलित पंजाबी गायक अमर सिंह चमकीला को 36 साल पहले जातिवादियों ने उतारा था मौत के घाट !

समाज की विभिन्न बुराइयों पर चिंतन करने के अलावा, चमकीला दलित आवाज का भी प्रतिनिधित्व करता है। उन्होंने कहा, “उनका लोकप्रिय गीत ‘की जोर गरीबूं […]

अंबेडकर जयंती पर जानिये संविधान और लोकतंत्र के बीच आस्था को ढाल क्यों बनाया जा रहा है?

देश में चुनावी बिगुल बज चुका है और इस चुनावी मौसम में आज हर पार्टी सैद्धांतिक रूप से बाबासाहब भीमराव अंबेडकर की विचारधारा, लोकतंत्र और […]

संविधान निर्माता बाबा साहेब के राष्ट्र निर्माण में महत्वपूर्ण योगदानों को छुपाने की वजह जान रह जायेंगे दंग

बाबासाहेब को गाँधी जी की जान बचाने के लिए पूना पैकट करके अलग मताधिकार के राजनीतिक अधिकार की बलि देनी पड़ी तथा अपने प्रतिनिधि स्वयं […]

हिंदू समाज में फैली कुरीतियों और रूढ़िवादिता के खिलाफ सबसे पहले आवाज उठाने वाले बहुजन हीरो थे महात्मा ज्योतिबा फुले

लंबे समय तक दोहरी मार से घायल हो चुकी महिलाओं का आत्मगौरव और स्वाभिमान पूरी तरह से ध्वस्त हो चुका था और इस दौरान ज्योतिबा […]

महात्मा ज्योतिबा फुले सही मायनों में आधुनिक भारत के राष्ट्रपिता, महिला-दलित उत्थान के लिए लगा दिया पूरा जीवन

जो मनुवादी जातिवादी मानसिकता वाली पार्टियां बहुजन महापुरुषों का जिक्र तक करना पसंद नहीं करती थीं, उनके स्वर्णिम इतिहास को दबाने की कोशिश करते थे, […]

जानिये कौन थे भारत के पहले स्वतंत्रता संग्राम की नींव रखने वाले दलित योद्धा शहीद मातादीन वाल्‍मीकि

मंगल पांडेय ने मातादीन को पानी पिलाने से इंकार कर दिया था  और कहा था कि ‘अरे भंगी, मेरा लोटा छूकर तू इसे अपवित्र करेगा […]